Hindi Hamesha

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Top Health Benefits of Turmeric And Uses in Hindi

Share:
know the health benefits of turmeric and turmeric uses for immunity, heart disease, joint pain in fingers, diabetes, weight loss, indigestion and more.

Health Benefits of Turmeric in Hindi



हल्दी के बारे में सभी जानते हैं। यह एक रसोई में काम आने वाला मसाला है। हल्दी के बिना खाने में स्वाद नही आता और न ही रंग आता है। भारत में हल्दी को अनेक रोगों की दवा रूप में लाखों सालों से उपयोग किया जाता रहा है। हल्दी में सर्वोत्तम antiseptic और antibacterial गुण मौजूद होते हैं। इसके चमत्कारी औषधीय गुण सराहनीय हैं। यह चोट, कफ, खांसी, त्वचा रोग आदि बहुत रोगों में काम करती है। हल्दी शरीर में सूजन और संक्रमण को समाप्त करती है। 

Immunity



हल्दी एक प्रभावशाली एंटीबायोटिक होती है। शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता पर सकारात्मक प्रभाव डालती है।  


Turmeric Lemon Water



( How to make turmeric tea for weight loss ) - गरम पानी में आधा या एक चम्मच हल्दी और एक-दो चम्मच शहद मिला कर पांच मिनट के लिए छोड़ दें। इसमें अपने शरीर और आवश्यकता के अनुसार निम्बू-रस मिला लें। 
इस पानी को एकदम न पियें, बल्कि इस पानी को एक-एक घूँट करके पीना चाहिए। 
लाभ -

Cancer - 

हल्दी में curcumin नामक तत्त्व पाया जाता है जो cancer के रोगियों में Healing  करता है। कैंसर को बढ़ने से रोकता है। इसलिए जिन लोगों को कैंसर हो तो उन्हें हल्दी का पानी रोज पीना चाहिए। 

Heart Disease

हल्दी खून साफ़ करती है और गंदे खून को शुद्ध खून में बदल देती है। दिल की धमनियों को साफ़ करती और खोल देती है। नियमित रूप से हल्दी वाले पानी का सेवन करते रहने से दिल को ताकत मिलती है। Heart Attack होने का खतरा कम हो जाता है। 

Joint Pain in Knee -

हल्दी में हर प्रकार की सूजन को ख़त्म करने की अद्भुत शक्ति होती है। इसकी antioxydenr properties गठिया में राहत देती हैं। जोड़ों की सूजन काम होने से जोड़ों में दर्द कम हो जाता है। Joint पैनके Patient को हल्दी का पानी जरूर पीना चाहिए। किसी जोड़ में या किसी जगह पर चोट और मोच होने पर हल्दी, चूना और शहद मिलाकर लेप करने से मोच में तुरंत आराम होने लगता है। इसलेप का उपयोग घुटनों के दर्द, कोहनियों के दर्द, में भी करें और लाभ देखें। और हल्दी को दूध में मिलाकर पीने से जल्दी घाव भर जाते हैं।   
जोड़ों के दर्द का एक कारण calcium की कमी भी हो सकता है। हल्दी और दूध लेने से हड्डियां मजबूत होती हैं। 

Diabetes -

हल्दी का पानी बिना शहद के पीना मधुमेह में लाभ देता है। मधुमेह के रोगियों को इस हल्दी वाले पानी का उपयोग सुबह खली पेट और रात को सोते समय करना चाहिए। 


Indigestion 

हल्दी पेट के अंदर जाकर, पेट में से फालतू जीवाणुओं को निकालती है और पेट की आँतों, अमाशय यकृत पर अनुकूल प्रभाव डालती है।  सफाई हो जाती है और इनमे जमा हुआ फालतू मल बाहर निकल जाता है। पाचन शक्ति में सुधार होता है। अपच के कारण मूँह में छाले होने पर हल्दी को गरम पानी में डालकर कुल्ला करें। छाले ठीक हो जायेंगे।  

Turmeric Benifits for Skin 

हल्दी का पानी खून को साफ़ करता है। खून साफ़ होने से चेहरे पर से मुंहासें ठीक हो जाती हैं और चेहरे की त्वचा में निखार आ जाता है। इसके अतिरिक्त अनेक त्वचा-रोगों में लाभ होता है। हल्दी सुंदरता को बढ़ाती है। पुराने समय से ही हल्दी को सुंदरता निखारने के लिए अनेक उबटनों में उपयोग किया जाता है। चेहरे की अनेक क्रीमों में इसका उपयोग होता है। 

Turmeric Milk 

हल्दी और दूध दोनों Health के लिए बहुत उपयोगी पदार्थ हैं। जब हल्दी और दूध को आपस में मिलाया जाता है, तो यह एक रसायन बन जाता है। शरीर के अंदरूनी चोट, मांस फटना, गुम चोट, मोच, इत्यादि में चमत्कारी फायदा देता है। 
किसी भी प्रकार की चोट लग जाये तो गरम दूध में हल्दी और घी डालकर पीना चाहिए। इससे चोट में तुरंत आराम होगा। शरीर में गम चोट लग जाये, मांसपेशियों में खिंचाव हो जाये, तो हल्दी और दूध का बेमिसाल फायदा होता है। चोट कुछ दिन में ठीक हो जाती है। ऊतकों की मरम्मत हो जाती है। शरीर के अंदरूनी और बाहरी घाव जल्दी भर जाते हैं।


Weight Loss at Home Exercise 

अगर आप या आपके परिवार में कोई मोटा है। और वो मोटा आदमी पतला होना चाहता है, तो उसके लिए हल्दी का पानी सर्वोत्तम है। Without Exercise, you can loss weight with Turmeric Water. आपको सिर्फ इतना करना है कि हल्दी का पानी दो गिलास बनाकर पी लेना है। ( अगर आपको जोड़ों में दर्द नही हो तो आधे निम्बू का रस भी मिला सकते है।  मधुमेह रोगी शहद की जगह देसी खांड या Sugar Free डाल  सकते है।  )फिर हाथों को हिलाते हुए दो किलोमीटर पैदल चलना है। लेकिन पैदल चलते समय शरीर को सीधा रखना अनिवार्य है। 
  केवल दस दिन के अंदर वजन कम होना शुरू हो जाएगा।  तीन-चार महीने में आप का शरीर पतला हो जाएगा। 
लेकिन इस के साथ थोड़ा परहेज भी आवश्यक है। अधिक तली हुई चीजें कम खाएं। चिकनाई और मीठा कम खाएं। मांस न खाएं। 
       




No comments