Hindi Hamesha

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Pigeon Peas Benefits And Other Uses in Hindi

Share:
Pigeon peas play a good role in maintaining health. Have pre-health advising and take the health benefits of pigeon peas. Pigeon peas and rice make a healthy way together. 

Pigeon Peas and Rice Benefits 

अरहर की दाल से सब वाकिफ है। मैं आज इसके कुछ घरेलु उपायों के बारे में बताऊंगा जिनके उपयोग करके आप घर में ही कुछ शारीरिक समस्याओं से निजात पा सकते हैं। अरहर एक दाल होती है जो हर घर में मिलती है। यह पाचक और शरीर की आँतों को साफ़ करने वाली होती है। इस ब्लॉग में आप अरहर के कुछ देसी नुस्खों के विषय में जानेंगे।

भांग का नशा उतारने के लिए - 

भांग का नशा ठीक करने के किये अरहर की दाल का उपयोग किया जाता है। अगर किसी को भांग का नशा हो गया हो तो अरहर की दाल को पीसकर पानी में मिलाकर पिलाना चाहिए। फिर पानी में अरहर दाल को उबालकर, ठंडा करके नशेड़ी को पिलाने से भांग का नशा उतर जाता है। 





Mouth Sore White


मुंह  सफ़ेद  छाले हो गए हों, तो अरहर दाल(pigeon peas) को पानी में भिगो दें और फिर उस पानी से मुंह में कुल्ला करें तो छालों में आराम हो जाता है। बहुत ही आसान उपाय है आप घर पर आजमा कर देख सकते हैं।
  

Toothache Remedy at Home


अगर किसी को दांतों में दर्द हो, तो अरहर के पत्तों का काढ़ा बना लें, उस काढ़े से कुल्ला करने से दांत का दर्द ठीक हो जाता है। 

बाल उगाना - Natural Treatment of Baldness  - 


अगर सिर के कई जगहों से बाल झड़ गए  हैं, तो उनके लिए एक घरेलु उपाय करें -
 सिर में जहां से बाल उड़े हुए हैं, वहां पर कपडे से रगड़ें। फिर उस जगह या सारे सिर में अरहर दाल (pigeon peas) के बारीक चूर्ण का लेप लगाएं। 5 घंटो के बाद सिर को धोकर सिर में सरसो का तेल लगा ले। तेल लगाकर धूप में बैठ जाएं। ध्यान रखे की धूप में बैठना जरूरी है। इस प्रयोग को आप कुछ दिन अगर पुरे तरीके से करते हैं, तो आपके सिर में बाल दोबारा से आ सकते हैं।





जीभ फट जाना - Cure Tongue Sore - 


अगर जीभ फट जाए या मुँह के अंदर किसी जगह से त्वचा फट जाए तो अरहर के कोमल पत्तो को चबाने से ठीक हो जाती है।  अरहर की दाल का घर में खाने में उपयोग करने से पेट में गैस बनना बंद हो जाती है। 

What to do when wounded -


यदि शरीर में घाव हो तो उस घाव पर अरहर के कोमल पत्तो का लेप बनाकर लगाने से वह ठीक हो जाता है। इस प्रकार छोटी-मोटी चोट लग गयी हो तो उस पर भी इनको लगा सकते हैं।  

छाती में दूध अधिक आने का इलाज - 


अगर स्तनपान कराने वाली महिला को कई बार दूध अधिक आने लगता है। ऐसी स्थिति में आप यह उपाय कर के देख सकते हैं। अरहर के पत्तों (leaves of Arhar) और अरहर दाल (pigeon peas) को एक साथ पीस कर छाती पर लगाने से छाती का दूध कम हो जाता है। घर पर ही इस को कुछ दिन आजमाकर देखे। अगर कोई व्यक्ति Unconscious हो गया हो, आधे घंटे तक अरहर दाल पानी में रखें.इस पानी Herb Water की एक बूँद रोगी के नाक में टपका दे और बाकी पानी फेंक दें । थोड़ी देर में रोगी को को होश आने लगेगा।  

Cure Inflammation -


अगर किसी अंग में सूजन हो गयी हो तो अरहर दाल को पीसकर हल्का गरम करके, उस अंग पर बांधने से सूजन ठीक हो जाती है।  

Cure Stomach Calculi 


अरहर के पत्ते पांच ग्राम ले और संगहुल लगभग आधा ग्राम लेकर पानी में घोल लें। आधे घंटे बाद छान कर पीने से पथरी आराम होता है। 

Cure Breast Swelling -


स्त्री के स्तनों में अगर सूजन हो गयी हो तो अरहर की दाल पीसकर लगाने से छाती की सूजन दूर हो जाती है. एक बात का ध्यान रखे की इस से छाती के दूध में भी कमी आती है। इस लिए प्रयोग थोड़ा कम करें।
  

Cure Dandruff


अरहर की दाल को छिलके सहित आधा गिलास पानी भिगो कर रख दें। फिर इस पानी को सिर में लगाने से रुसी ठीक हो जाती है। 

Cure Hiccup - 


अरहर के छिलके का धुआं सूंघने से हिचकी रुक जाती है। 

अंडकोष वृद्धि - 


(pigeon peas leaves) पानी में पीस कर बढे हुए अंडकोषों पर हल्का सा गरम करके बाँध लेने से, कुछ दिन में अंडकोष वृद्धि में लाभ मिलता है। 

Cure of Excess Sweating - 


  • बहुत लोगों को अधिक पसीना आता है.उन्हें चाहिए, अरहर के बीजों को भून कर उनका बारीक चूर्ण बना ले.इस चूर्ण को शरीर पर लगाने से कुछ ही दिन में शरीर से पसीना आना कम हो जाता है। 
  • एक मुठ्ठी अरहर की दाल, एक चम्मच नमक, आधा चम्मच सोंठ चूर्ण (dry ginger) को सरसों के तेल में छोंक ( fry ) लें। इस पॉउडर को शरीर पर मालिश करने पसीना आना बंद हो जाता है। 

Cure Poison of Scorpion -


यदि कोई बिच्छू काट ले, तो अरहर की जड़ को पानी में पीस कर बाँधने से बर्र आदि का जहर उतर जाता है और सूजन नहीं चढ़ती। 

Migraine 


आधा शीशी या आधे सिर का दर्द हो तो अरहर के पत्तों को तजा ताजा कूट कर सूंघने से लाभ मिलता है। 

Itching in body - 


किसी को खुजली होने पर अरहर के पत्तों को जलाकर उसकी राख को दही में मिलाकर खाने से आराम होता है। ऐसा एक महीने तक करना होता है।  इस दौरान चाय दूध आदि का प्रयोग कम करना चाहिए।

कान की सूजन - Ear Swelling Cure -

कान में अगर सूजन हो गयी हो तो अरहर की दाल को पीस कर कान पे लगाने से कान की सूजन समाप्त हो जाती है । अगर कानों में छेद करवाने से सूजन है, तो ये न लगाएं। वहां पर हल्दी और सरसों का तेल लगाएं। कान के अंदर भी अरहर दाल का लेप न लगाएं। कान के अंदर की सूजन को किसी अच्छे कान के डॉक्टर को दिखाएं। 

 Conclusion -

अरहर की दाल और इसका पौधा पुरे देश में आसानी से मिल जाता है। बहुत सी दवाएं हमारे आस पास ही होती हैं। मगर हमें उनके बारे में पता नहीं होता। 200 साल पहले इन्ही घरेलु दवाओं से सब रोगों का इलाज हुआ करता था। घरेलु नुस्खे बहुत कारगर होते हैं। लेकिन कुछ लोग इन को आजमाते तो हैं, लेकिन पूरा फायदा नहीं ले पाते। क्योंकि उन्हें सही तरीके का पता नहीं होता। आप अपने घर पर इन घरेलु नुस्खों को आजमाने से पहले सही तरीके का पता लगा लें, फिर उस का उपयोग करे। आपको पूरा आराम होगा। 

आगे भी इसी तरह की जानकारी के साथ आप लोगो के सामने हाजिर होऊंगा। अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अधिक से अधिक शेयर करें ताकि दुनिया में सभी समान रूप से इनका लाभ उठा सकें।


                                                          धन्यवाद ।                                      

No comments